साधना और रियाज़ में क्या फरक हैं

  • संगीता गुणेश पारनेरकर Bharati Vidyapeeth (Deemed to be University) Pune
Keywords: रियाज़, साधना, स्वर, काल, वेद, साधक, परिस्तिथि, आनंद

Abstract

वेद कालीन संगीत से लेकर आधुनिक काल के संगीत तक साधना और रियाज़ की संकल्पनाए कैसे बदली? रियाज़ का अर्थ क्या हैं और साधना का अर्थ क्या हैं साधना निरपेक्ष हैं और रियाज़ में प्रस्तुतीकरण से मिलने वाली अपेक्षा हैं।    वेद काल में साधना का क्या महत्वा था सामजिक परिस्थितियो के स्थित्यंतर होने के बाद समाज में बदलाव आ चुके और धीरे धीरे साधना रियाज़ में परिवर्तित होने लगी वेद काल में साधना से मिलने वाला मोक्ष प्राप्ति का आनंद आधुनिक काल में रियाज़ करके और प्रस्तुतिकरण करने से आनंद की ओर विकसित हो रहा हैं।     

Fatal error: Call to a member function getCount() on a non-object in /home/ijikc/public_html/cache/t_compile/97712944e788eeedbf71e2a9b307b63eaf11bf48^%%17^178^1786CABF%%article_details.tpl.php on line 164